शनिवार, नवम्बर 13, 2021

चीन ने फिर किया परमाणु परीक्षण, रिपोर्ट्स में हुआ खुलासा

17 अक्टूबर की एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन की सेना ने “परमाणु सक्षम हाइपरसोनिक मिसाइल” का पहला परीक्षण किया है।

फाइनेंशियल टाइम्स ने बताया कि मिसाइल ने अगस्त में “अपने लक्ष्य की ओर बढ़ने से पहले दुनिया की परिक्रमा की, एक उन्नत अंतरिक्ष क्षमता का प्रदर्शन किया जिसने अमेरिकी खुफिया विभाग को आश्चर्यचकित कर दिया।”

अखबार ने परीक्षण में शामिल पांच लोगों के हवाले से कहा कि चीनी सेना ने एक रॉकेट लॉन्च किया, जिसमें एक हाइपरसोनिक ग्लाइड व्हीकल था, “जो अपने लक्ष्य की ओर जाने से पहले लो ऑर्बिट स्पेस से उड़ान भरता है।” तीन लोगों ने अखबार को बताया कि मिसाइल “अपने लक्ष्य से लगभग दो दर्जन मील चूक गई”, लेकिन दो अन्य लोगों ने कहा कि “यह दिखाता है कि चीन ने हाइपरसोनिक हथियारों पर आश्चर्यजनक प्रगति की है जो अमेरिकी हतियारो की तुलना में कहीं गुना उन्नत है।

फाइनेंशियल टाइम्स ने लिखा कि केवल यू.एस., रूस और चीन हाइपरसोनिक ग्लाइड हतियार विकसित कर रहे थे, जो रॉकेट पर लॉन्च किए जाते हैं और फिर अपनी गति से पृथ्वी की परिक्रमा करते हैं। उन्हें ट्रैक करना मुश्किल है क्योंकि बैलिस्टिक मिसाइलों के विपरीत, वे ” फिक्स्ड पैराबोलिक ट्राजेक्टोरी का पालन नहीं करते हैं”। अखबार ने कहा कि ये परीक्षण अमेरिकी मिसाइल रक्षा प्रणालियों के लिए एक बड़ी चुनौती होगी क्योंकि “ये हतियार, सिद्धांत रूप से, दक्षिणी ध्रुव पर उड़ सकता है।” रिपोर्ट में कहा गया है कि, “यह अमेरिकी सेना के लिए एक बड़ी चुनौती होगी क्योंकि इसकी मिसाइल रक्षा प्रणाली उत्तरी ध्रुवीय मार्ग पर केंद्रित है।”

अखबार ने सुरक्षा विशेषज्ञों के हवाले से कहा कि परीक्षण अगस्त में किया गया था। यह नोट किया गया कि चीन एकेडमी ऑफ लॉन्च व्हीकल टेक्नोलॉजी, जो ऐसे मिसाइल लॉन्च करती है, ने जुलाई में लॉन्ग मार्च रॉकेट के अपने 77 वें लॉन्च की घोषणा की थी, और अगस्त के अंत में चीन ने कहा कि उसने 79 वीं उड़ान भरी है, लेकिन 78 वें लॉन्च के बारे में कोई जानकारी नहीं है इससे ये अटकलें लगाई जा रही है कि चीन ने इसी लॉन्च में ये परिक्षण किया होगा।

Latest Articles

NewsExpress