Election Commission of India

कोरोना के मामले देश में दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है, लेकिन चुनावी राज्यों में राजनीतिक पार्टियां अपने अपने रैलियों में भीड़ ऐसे जुटा रहे जैसे कोरोना ने इन पार्टियों को NOC दे रखा हो। चुनाव प्रचार के दौरान कोई गाइडलाइन फॉलो नहीं किया जा रहा है।

जबकि आम जनता को कोरोना का गाइडलाइन फॉलो नहीं करने कारण चालान काटा जा रहा है, जिस पर कई लोगों ने केंद्र सरकार और इलेक्शन कमीशन पर सवालिया निशान उठाया।

हालांकि, चारों तरफ से आलोचना के बाद इलेक्शन कमीशन ने सख्त कदम उठाया है। उसने सभी पॉलिटिकल पार्टी को चुनाव प्रचार में कोरोना के गाइडलाइन को सख्ती से फॉलो करने के लिए एक पत्र जारी किया है। अपने पत्र में इलेक्शन कमीशन ने कहा है कि यदि कोई भी प्रत्याशी, स्टार प्रचारक, नेता कोरोना के लिए जारी दिशा निर्देशों को फॉलो नहीं करता है ,तो उसके चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगाने से परहेज नहीं किया जाएगा।

चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों के लिखे अपने पत्र में कहा है कि हाल के दिनों में कोरोना के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना के बढ़ते केसों को नजरअंदाज करते हुए राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने रैलियों में उसके लिए जारी दिशा-निर्देशों जैसे मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग आदि का पालन नहीं कर रहे हैं जिससे संक्रमण बढ़ने का खतरा है।

बता दें कि इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार और चुनाव आयोग से चुनावी रैलियों में कोरोना के दिशा निर्देशों का पालन नहीं करने पर जवाब तलब किया था।

By: Sumit Anand

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here