रविवार, नवम्बर 14, 2021

देश भर के जिला अस्पतालों के कामकाज पर नीति आयोग ने रिपोर्ट जारी की

नीति आयोग ने भारत में जिला अस्पतालों की प्रदर्शन मूल्यांकन रिपोर्ट जारी कर दी है, जिसका शीर्षक जिला अस्पतालों के कामकाज में अपनाये जा रहे तौर-तरीके है। इस रिपोर्ट को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और डब्ल्यूएचओ इंडिया ने आपसी सहयोग से तैयार किया है। क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया के एक घटक बोर्ड नेशनल एक्रीडिटेशन बोर्ड फॉर हॉस्पिटल्स एंड हेल्थकेयर प्रोवाइडर्स ने ऑन-ग्राउंड डेटा का सत्यापन किया है।

रिपोर्ट को नीति आयोग के सदस्य डॉ वी.के. पॉल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत, अपर सचिव डॉ राकेश सरवाल, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय में अपर सचिव आरती आहूजा, भारत में विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के प्रतिनिधि डॉ रोडरिको ओफ्रिन और क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष आदिल ज़ैनुलभाई की मौजूदगी में जारी किया गया।

रिपोर्ट की प्रस्तावना में नीति आयोग के सदस्य डॉ वी के पॉल ने स्वस्थ समुदायों के निर्माण में जिला अस्पतालों की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर दिया, जो स्वास्थ्य सेवाओं की एक व्यापक पहुंच प्रदान करते हैं और एक बड़ी आबादी के सभी व्यक्तियों की ज़रूरतों को पूरा करते हैं। उन्नत माध्यमिक देखभाल प्रदान करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका के बावजूद, दुर्भाग्य से कुछ कमियां भी हैं, चाहे वह मानव संसाधनों की कमी हो, क्षमता, उपयोग और सेवा में वृद्धि की बात हो। उन्होंने कहा, “सभी के लिए स्वास्थ्य” को एक वास्तविकता बनाने और यह सुनिश्चित करने के लिए कि प्रत्येक नागरिक की सुरक्षित तथा विश्वसनीय स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच हो, इन कमियों को दूर किये जाने की आवश्यकता है। नीति आयोग द्वारा किया गया जिला अस्पताल प्रदर्शन मूल्यांकन उसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने कहा कि यह रिपोर्ट देश भर में किए गए जिला अस्पतालों के कामकाज का पहला मूल्यांकन है। यह डेटा-संचालित शासन की ओर स्वास्थ्य सेवा वितरण प्रणाली में एक प्रमुख बदलाव का प्रतीक है और यह हमें स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठाने वाले समुदायों तथा लोगों के और भी करीब ले जाता है। इस मूल्यांकन का संपूर्ण उद्देश्य विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्ध स्वास्थ्य सेवाओं की अधिक जानकारीपूर्ण सोच का मार्ग प्रशस्त करना है।

मूल्यांकन ढांचे में संरचना और आउटपुट के डोमेन में 10 प्रमुख प्रदर्शन संकेतक शामिल किये गए हैं। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के कुल 707 जिला अस्पतालों ने इस मूल्यांकन में भाग लिया। वर्ष 2017-18 के स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली (एचएमआईएस) के आंकड़ों को इस कार्य के लिए आधार रेखा के रूप में इस्तेमाल किया गया है। इसके अनुसार अस्पतालों को तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है: छोटे अस्पताल (200 बिस्तरों से कम या उसके बराबर), मध्यम आकार के अस्पताल (201-300 बिस्तरों के बीच) और बड़े अस्पताल (300 बिस्तरों से अधिक)। रिपोर्ट 10 संकेतकों में प्रत्येक अस्पताल श्रेणी में शीर्ष प्रदर्शन करने वाले जिला अस्पतालों के कुछ सर्वोत्तम क्रियाकलापों का दस्तावेजीकरण करती है।

कुल मिलाकर 24 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 75 जिला अस्पताल बिस्तर, मेडिकल और पैरामेडिकल स्टाफ, कोर हेल्थ और डायग्नोस्टिक टेस्टिंग सेवाओं की उपलब्धता से लेकर बेड ऑक्यूपेंसी रेट और प्रति सर्जन सर्जरी की संख्या जैसे संकेतकों पर शीर्ष प्रदर्शन करने वाले के रूप में उभर कर सामने आये हैं।

रिपोर्ट में स्वास्थ्य प्रणाली के सामने आने वाले कुछ प्रमुख मुद्दों पर भी प्रकाश डाला गया है और देश में जिला अस्पतालों की स्थिति को मजबूत करने के लिए कुछ स्थायी समाधान प्रदान किए गए हैं, जिसमें मुख्य रूप से एचएमआईएस में डेटा रिपोर्टिंग में सुधार करना और जिला अस्पतालों में स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं के लिए अधिक जवाबदेही लाने हेतु इस तरह के प्रदर्शन मूल्यांकन अभ्यास को प्रोत्साहित करना शामिल है।

यह रिपोर्ट देश में उन्नत और बेहतर जिला अस्पतालों के विकास के लिए कार्ययोजना के एक आधार के रूप में काम कर सकती है।

Latest Articles

NewsExpress