गुरूवार, अक्टूबर 28, 2021

आधार कार्ड में अब नहीं आएगा पिता और पति का नाम, रिश्तों की जगह लिखा होगा ‘केयर ऑफ’

आधार कार्ड धारकों के लिए जरूरी खबर है। अब आधार कार्ड बनवाना हुआ और आसान। अनाथों को अब नहीं होगी दिक्कत। आधार कार्ड पर अब बदल जाएंगे रिश्‍ते। आइये जानते है कैसे।

अगर आप आधार कार्ड में किसी तरह का बदलाव करने जा रहे हैं तो आपके पिता या पति के साथ कार्ड में रिश्ते की पहचान सामने नहीं आएगी। यानी अब आधार कार्ड में पति या पिता का नाम अनिवार्य नहीं होगा। अब यह सिर्फ आपकी ही पहचान का माध्यम होगा। आइए जानते हैं अब क्या है आधार कार्ड के जरूरी दस्तावेज।

दिल्ली पुलिस के रिटायर्ड सब इंस्पेक्टर रंधीर सिंह ने जब पत्नी के आधार कार्ड में घर का पता बदलने पर ‘वाइफ आफ’ की जगह ‘केयर आफ’ में उनका नाम आया तो वो हैरान रह गए। पहले उन्हें लगा कि कंप्यूटर सिस्टम में कोई दिक्कत हो गई है। लेकिन बाद में जब वे आधार कार्ड में बदलाव के लिए पोस्ट आफिस, बैंक व अन्य कई केंद्रों पर गए तो सभी केंद्रों पर केयर आफ में ही उनका नाम आ रहा था।

बता दे कि सिंह पहले अशोक विहार पुलिस कालोनी में रहते थे। लेकिन रिटायर होने के बाद वे पीतमपुरा में रहने लगे हैं। इसलिए वे परिवार के सभी सदस्यो का आधार कार्ड में पता बदलवाने के लिए गए थे। बेटे के आधार कार्ड में बदलाव पर पिता के नाम की जगह केयर आफ आ रहा था।

इस बारे में यूआइडीएआइ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वर्ष 2018 में आधार को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था। उस फैसले में लोगों की निजता की बात की गई थी। अब आधार कार्ड में रिश्तों की जानकारी नहीं दी जा रही है।यह बदलाव किस साल के किस महीने में किया गया, इसकी जानकारी यूआइडीएआइ की तरफ से नहीं दी गई।

आधार में किसी भी तरह के बदलाव के लिए आइटी मंत्रालय में काम करने वाले कामन सर्विस सेंटर के प्रबंध निदेशक दिनेश त्यागी ने ज़ी न्यूज़ को जानकारी दी कि अब आधार कार्ड में पिता, पुत्र, पुत्री की जगह ‘केयर आफ’ प्रिंट हो रहा है। इतना ही नहीं नए नियम के तहत अगर कोई चाहे तो केयर आफ में भी किसी का नाम नहीं दे सकता है। सिर्फ नाम और पता देकर भी आधार कार्ड बनवा सकते हैं।

आधार कार्ड में 12 अंकों के यूनिक नंबर दिए जाते हैं ,जो उसके फिंगर प्रिंट और आंख से जुड़ा होता है। अगर कोई आधार कार्ड बनाने के बाद अपना नाम बदल लेता है तो भी यूनिक नंबर से उसकी पहचान हो जाएगी। यह पूरी तरह से व्यक्ति का पहचान पत्र है।

रिटायर्ड सब इंस्पेक्टर सिंह ने कहा कि विशेष परिस्थिति में उनकी पत्नी अब यह कैसे दावा कर सकेगी कि वह किसकी पत्नी है। दूसरी तरफ जानकार यह भी कह रहे हैं कि आधार कार्ड में इस बदलाव से वे लोग भी आसानी से आधार कार्ड बनवा सकेंगे ,जो अनाथ हैं या जिनका इस दुनिया में कोई नहीं है।

Latest Articles

NewsExpress