शनिवार, अक्टूबर 23, 2021

अहमदाबाद में आयकर विभाग का तलाशी अभियान

आयकर विभाग ने अहमदाबाद स्थित एक समूह पर सितंबर 8, को तलाशी और जब्ती अभियान चलाया। यह समूह गुजरात के प्रमुख व्यापारिक घरानों में से एक है जो मुख्य रूप से मीडिया और रियल एस्टेट क्षेत्रों में कार्यरत है। समूह की मीडिया शाखा में इलेक्ट्रॉनिक्स, डिजिटल और साथ ही प्रिंट मीडिया शामिल हैं।

जबकि रियल एस्टेट कारोबार में अफोर्डेबल हाउसिंग प्रोजेक्ट्स और शहरों के इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट शामिल हैं। तलाशी अभियान 20 से अधिक परिसरों में चलाया गया।

तलाशी अभियान के दौरान, बड़ी संख्या में आपत्तिजनक दस्तावेज, लूज शीट, डिजिटल सबूत आदि पाए गए हैं और उन्हें जब्त भी किया गया। इन सबूतों में कई वित्त वर्षों के दौरान समूह के बेहिसाब लेनदेन के विस्तृत रिकॉर्ड मौजूद पाए गए हैं। इन सबूतों से 500 करोड़ रुपये से अधिक बेहिसाब नकद प्राप्तियों का संकेत मिला है जो कि ट्रांसफरेबल डेवलपमेंट राइट (टीडीआर) प्रमाणपत्रों की बिक्री से किए गए हैं। अचल संपत्ति प्रोजेक्ट और जमीन सौदों में 350 करोड़ रुपये से अधिक के ऑन-मनी लेनदेन के दस्तावेजों के सबूत मिले हैं।

कुल मिलाकर, 150 करोड़ रुपये से अधिक के नकद आधारित ऋण और ब्याज भुगतान/पुनर्भुगतान के प्रमाण भी मिले हैं जिनका हिसाब नहीं दिया गया है। इसके अलावा, बेहिसाब नकद व्यय, नकद में अग्रिम प्राप्ति और नकद में ब्याज भुगतान के प्रमाण भी मिले हैं। अब तक विभिन्न परिसरों से एक करोड़ रुपये से अधिक नकद और 2.70 करोड़ रुपये के आभूषण जब्त किए जा चुके हैं। समूह से बड़ी संख्या में फर्जी व्यक्तियों और वर्षों से कोऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटियों के नाम पर अर्जित संपत्तियों के मूल दस्तावेज भी मिले हैं।

कुल मिलाकर, खोज और जब्ती अभियान ने पिछले कई वर्षों में 1,000 करोड़ रुपये से अधिक के लेन-देन का खुलासा किया है और इसका कोई हिसाब नहीं है। तलाशी में 14 लॉकर भी मिले, जिन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

तलाशी अभियान अभी भी जारी है और आगे की जांच जारी है।

Latest Articles

NewsExpress