रविवार, अक्टूबर 3, 2021

जॉनसन एंड जॉनसन की कोविड वैक्सीन अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने जारी की चेतावनी : जानिए क्या है मामला

अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने जॉनसन एंड जॉनसन की कोविड वैक्सीन लेने वालों के लिए खतरे की घंटी बजा दी है। उसने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि इस वैक्सीन के इस्तेमाल से न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर का खतरा बढ़ सकता है। रिपोर्ट के अनुसार इस वैक्सीन को अब तक एक करोड़ पच्चीस लाख डोज दी गई है लेकिन इनमें से 100 मामलों में Guillain-Barre नामक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर पाया गया है।

यह बात फेडरल वैक्सीन सेफ्टी मॉनिटरिंग सिस्टम की जांच रिपोर्ट में सामने आई है। रिपोर्ट के अनुसार Guillain-Barre न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर से ग्रसित 100 लोगों में से 95 मामलों में मरीज की हालत बेहद गंभीर थी और उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की जरुरत पड़ी। इनमें एक व्यक्ति की मृत्यु की खबर सामने आई।

हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि वैक्सीन के अनुपात में इस बीमारी के होने का प्रतिशत बेहद कम है। जॉन होप्किंस यूनिवर्सिटी में इंस्टिट्यूट फ़ॉर वैक्सीन सेफ्टी के निदेशक डेनियल सालमोन के अनुसार, “डेटा से इस बात की जानकारी मिलती हैं कि वैक्सीन से Guillain-Barre सिंड्रोम हो सकता है, लेकिन इसके होने का रिस्क बेहद कम है।” साथ ही उन्होंने कहा, “वैक्सीन लगाने पर कुछ मामलों में ये बीमारी क्यों सामने आई है इसको लेकर हम अब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सके हैं। जो की हमारे लिए भी बेहद निराशा की बात है।”

बता दें कि Guillain-Barre सिंड्रोम इम्यून सिस्टम के साथ साथ नर्व सिस्टम में मौजूद हेल्दी टिशूज पर बुरा असर डालता है। इस सिंड्रोम से ग्रसित होने पर मरीज के चेहरे की नसें कमजोर शरीर में कमजोरी, हाथ पैर में झनझनाहट होना और दिल की धड़कन अनियमित रहना लक्षण हैं।

यह लक्षण भारत में भी कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वाले कुछ लोगों में दिखे थे। एनल्स ऑफ न्यूरोलॉजी नामक पत्रिका में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार, वैक्सीन लेने के बाद इस बीमारी से ग्रसित लोगों के चेहरे के दोनों किनारे कमजोर होकर लटक गए थे, जबकि आमतौर पर इसके 20 फीसदी से भी कम मामलों में ऐसा देखने को मिलता है। अगर ऐसा लक्षण किसी में दिखता है तो चिकित्सों से तुरंत संपर्क करें।

Latest Articles

NewsExpress