अयोध्या में भगवान् राम के भव्य मंदिर की तैयारी जोड़ो- शोरों से चल रही है। श्री राम जन्मभूमि के द्वारा बताया गया है कि राम मंदिर का निर्माण अब 107 एकड़ में किया जाएगा, जो पहले महज़ 70 एकड़ में किया जाना था।

ट्रस्ट ने बताया कि उसने यहाँ पर और 7285 स्कायर फ़ीट जमीन खरीदी है जिसके बाद 107 एकड़ जमीन पर राम मंदिर का निर्माण किया जाएगा। आपको बता दे कि राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के आने के बाद सुप्रीम कोर्ट की तरफ से राम जन्मभूमि ट्रस्ट को 70 एकड़ जमीन मिली थी, जिसके बाद ट्रस्ट ने आसपास की कुछ जमीन और खरीद ली जिससे इसका और अधिक भव्य निर्माण किया जा सके।

अयोध्या में 5 अगस्त के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर का शिलान्यास किया, जिसके बाद राम मंदिर के नक़्शे को भी पास कर दिया गया था। फिलहाल वहां पर नींव बनने का काम चालू है, बढ़ी हुई जमीन के हिसाब से ही नक़्शे में कुछ अपडेट किया जा रहा है।

क्या – क्या होगा राम मंदिर परिसर में

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के मुताबिक, राम जन्मभूमि परिसर में करीब पांच एकड़ के इलाके में रामलला का मंदिर बनेगा। उसके अलावा परिसर में कई और मंदिरों का निर्माण किया जाएगा। परिसर में लाइब्रेरी, संग्रहालय और यात्रियों के रहने के लिए सुविधाएं भी बनाई जाएगी। मंदिर के लिए लम्बें वक़्त से पत्थरों को तलाशा जा रहा है।

कौन सी कम्पनियाँ लगी है मंदिर निर्माण में

अयोध्या में हो रहे मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट ने कई कंपनियों के साथ समझौता किया है. श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के मुताबिक, लार्सन एंड टर्बो को मंदिर निर्माण का काम दिया गया है।

इसके अलावा मंदिर क्षेत्र में तीर्थयात्रियों के लिए संबद्ध सेवाओं/सुविधाओं के विकास के लिए क्षेत्र को विकसित करने के लिए टाटा कंसल्टिंग इंजीनियर्स को प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंसी और डिज़ाइन एंड इंजीनियरिंग के साथ ट्रस्ट का समझौता हुआ है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here