सोमवार, नवम्बर 15, 2021

सिंधिया ने उड़ान योजना के तहत आगरा-लखनऊ रूट पर सीधी उड़ान को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

क्षेत्रीय हवाई संपर्क को और गति देने के लिए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने केंद्रीय कानून और न्याय राज्य मंत्री प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल, नागरिक उड्डयन मंत्रालय सचिव राजीव बंसल के साथ भारत सरकार की ‘उड़े देश का आम नागरिक’ (उड़ान) योजना के तहत आगरा (उत्तर प्रदेश)-लखनऊ (उत्तर प्रदेश) रूट पर पहली सीधी उड़ान को वस्तुतः हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम सिंधिया ने कहा, “मैं आगरा के लोगों को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सीधे संपर्क के लिए बधाई देता हूं। दोनों शहर अपार ऐतिहासिक, आर्थिक और पर्यटन क्षमता रखने का एक आदर्श उदाहरण हैं। आगरा और लखनऊ न केवल उत्तर प्रदेश के लिए बल्कि पूरे विश्व के लिए विभिन्न कारणों से महत्वपूर्ण हैं। नई उड़ानों के साथ, दोनों शहरों के बीच 4 घंटे की यात्रा में लगने वाला समय अब घटकर केवल 1 घंटे की उड़ान रह गया है। मुझे आने वाले महीनों में कानपुर और लखनऊ से अतिरिक्त उड़ानों की घोषणा करते हुए भी खुशी हो रही है। मैं उत्तर प्रदेश के लोगों को विश्वास दिलाता हूं कि यह राज्य में हवाई संपर्क को मजबूत करने के लिए शुरुआती कदम हैं, हम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई ‘उड़ान-उड़े देश का आम नागरिक’ योजना के तहत और भी बहुत कुछ करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इस पहल के तहत, हम महानगरों के साथ शहरों के बीच हवाई संपर्क स्थापित कर रहे हैं, और फिर अंतर्राज्यीय संपर्क को मजबूत कर रहे हैं।”

आगरा हवाई अड्डा, उत्तर प्रदेश भारतीय वायु सेना के स्वामित्व वाला एक सिविल एन्क्लेव है और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) द्वारा संचालित है। अहमदाबाद और बैंगलोर के बाद लखनऊ सीधी उड़ानों के माध्यम से आगरा से जुड़ा तीसरा शहर बन गया है। एयरलाइन मेसर्स इंडिगो एयरलाइंस को उड़ान 3.0 के तहत आगरा-लखनऊ रूट दिया गया है। एयरलाइन अपने एटीआर 72 विमान को इस रूट पर तैनात करेगी।

आगरा और वाराणसी के साथ लखनऊ उत्तर प्रदेश हेरिटेज आर्क का हिस्सा है, जो राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बनाई गई सर्वेक्षण त्रिभुजों की एक श्रृंखला है। इसके अलावा, यह शहर फुटवियर, चमड़ा और अन्य निर्माण इकाइयों के साथ-साथ अपने फलते-फूलते पर्यटन उद्योग के लिए जाना जाता है। ताजमहल और आगरा का किला यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल हैं जो दुनिया भर से पर्यटकों को अपनी ओर खींचता है। ये नई उड़ानें पर्यटकों और आम लोगों को इन क्षेत्रों में यात्रा करने के लिए अधिक यात्रा विकल्प प्रदान करेंगी जिससे क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।

इसके अलावा, भारत सरकार की गति शक्ति योजना के तहत सभी ढांचागत विकास स्थानीय निर्माताओं की वैश्विक प्रोफ़ाइल को बढ़ाने में मदद करेंगे और उन्हें दुनिया भर में अपने समकक्षों के साथ प्रतिस्पर्धा करने में मदद करेंगे। यह भविष्य के नए आर्थिक क्षेत्रों की संभावनाओं को भी जन्म देता है।

उड़ान योजना के तहत अब तक 371 रूट और 60 हवाई अड्डों (2 वॉटर एयरोड्रोम सहित 5 हेलीपोर्ट) का संचालन किया जा चुका है।

Latest Articles

NewsExpress