रविवार, अक्टूबर 3, 2021

हवाईअड्डों के विकास के काम में तेजी लाने को लेकर सिंधिया ने तेलंगाना और मेघालय के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम.सिंधिया ने तेलंगाना और मेघालय के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर उनके राज्यों में हवाई इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने और विभिन्न मामलों में तेजी लाने में के लिए उनसे व्यक्तिगत हस्तक्षेप का अनुरोध किया है।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव को पत्र लिखते हुए, सिंधिया ने हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एचआईएएल) के लिए कंसेशन समझौते की अवधि के विस्तार के मुद्दे पर उनका ध्यान आकर्षित किया है। पत्र में उन्होंने लिखा है कि हैदराबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के विकास, निर्माण, संचालन और रखरखाव के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय, भारत सरकार और एचआईएएल के बीच 20 दिसंबर, 2004 को एक कंसेशन समझौता (सीए) हुआ था।

समझौते के सेक्शन 13.7.1 के आधार पर मेसर्स एचआईएएल ने अपनी रियायत की अवधि को शुरुआत में तय 30 वर्ष से बढ़ाने का अनुरोध किया है। इसके तहत कंपनी ने 23 मार्च, 2038 से अगले 30 वर्ष यानी 23.03.2068 तक रियायत बढ़ाने का अनुरोध किया है। ऐसे में राज्य सरकार से अनुरोध है कि वह कंसेशनल समझौते की अवधि के विस्तार के लिए एचआईएएल के अनुरोध का फिर से निरीक्षण करे और नागरिक उड्डयन मंत्रालय को अपनी सिफारिशें प्रस्तुत करे।

सिंधिया ने इसके अलावा वारंगल हवाई अड्डे के संचालन और क्षेत्रीय संपर्क योजना (आरसीएस)-उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) के तहत उसे शामिल करने के मामले को भी रेखांकित किया है। उन्होंने लिखा है कि वारंगल हवाई अड्डा एचआईएएल से 150 किमी की हवाई दूरी के भीतर स्थित है और इसे आपसी सहमति के आधार पर विकसित किया जा सकता है। इस संभावना की तलाश एचएआईएल और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के साथ तेलंगाना राज्य मिल कर सकते हैं।

इसी तरह, सिंधिया ने तुरा हवाई अड्डे के शीघ्र संचालन में मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा से उनके व्यक्तिगत हस्तक्षेप का अनुरोध किया है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने हवाई यात्रा को आम जनता के लिए सस्ती बनाकर देश में अनारक्षित और कम उड़ान सर्विस वाले हवाई अड्डों से क्षेत्रीय हवाई संपर्क बढ़ाने के लिए आरसीएस-उड़ान योजनाओं की शुरूआत की है। तुरा हवाई अड्डा अनारक्षित हवाई अड्डों की अस्थायी सूची में शामिल है। विशेष दौर की बोली 4.1 में दो आरसीएस मार्गों यानी शिलांग से तुरा वीवी और गुवाहाटी से तुरा वीवी के लिए हेलीकॉप्टर संचालन के लिए बोलियां प्राप्त हुई हैं और इसे योजना के प्रावधानों के अनुसार जल्द ही अंतिम रूप दिए जाने की संभावना है।

Latest Articles

NewsExpress