आयकर विभाग

आयकर विभाग ने 24 फरवरी 2021 को हैदराबाद के एक प्रमुख फर्मास्युटिकल समूह की तलाशी ली। यह फर्मास्युटिकल समूह इंटरमिडियट्स, एक्टिव फर्मास्युटिकल इंग्रेडियन्टस (एपीआई) तथा विभिन्न फॉर्मुलेशनों की मैन्युफैक्चरिंग का व्यवसाय करता है। कुल तैयार उत्पाद में से अधिक उत्पाद अमरीका/यूरोप जैसे विभिन्न देशों में निर्यात किए जाते हैं। तलाशी की कार्रवाई पांच राज्यों में 20 ठिकानों पर की गई।

तलाशी में 1.66 करोड़ रुपए की राशि जब्त की गई। तलाशी के दौरान डिजिटल मिडिया, पेन ड्राइव, दस्तावेजों आदि में संदिग्ध साक्ष्य पाए गए। एसेसी@ERP से संदिग्ध डिजिटल साक्ष्य एकत्रित किए गए।

तलाशी में फर्जी तथा बिना अस्तित्व वाली कंपनियों से खरीद का मामला व्यय के कुछ मदों में कृत्रिम वृद्धि के साथ-साथ वाई प्रोड्क्ट की ब्रिकी से संबद्ध प्राप्तियों को दबाने के मामले पाए गए। जमीन खरीदने के लिए मनी पेमेंट का साक्ष्य पाया गया। तलाशी के दौरान अन्य कानूनी मामले भी चिन्हित किए गए। इनमें निजी खर्चों को कंपनी की किताब में दिखाना और संबंधित कंपनियों/व्यक्तियों द्वारा जमीन खरीद को सरकार के एसआरओ मूल्य से कम दिखाना शामिल है।

इस तलाशी से बिना हिसाब-किताब की लगभग 400 करोड़ रुपए की आय के साक्ष्य मिले जिसमें से एजेंसी समूह ने 350 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आय को स्वीकार किया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here