शनिवार, अक्टूबर 23, 2021

सरकार ने किसान नेताओं की मांग को किया खारिज, राकेश टिकैत बोलें- जब तक न्याय नहीं तब तक संघर्ष रहेगा जारी

हरियाणा के करनाल में लघु सचिवालय के बाहर किसानों का धरना जारी है। किसान नेताओं और पुलिस-प्रशासनिक अफसरों के बीच करीब तीन घंटे चली बातचीत विफल हो गई। करनाल के किसानों ने करनाल के तत्कालीन एसडीएम आयुष सिन्हा पर कार्रवाई करने की मांग की थी। लेकिन सरकार ने किसान नेताओं की मांग को खारिज कर दिया है।

किसान नेता राकेश टिकैत ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि हमारी आज प्रशासन के साथ 3 घंटे मीटिंग हुई। सरकार SDM पर कोई भी कार्रवाई करने के लिए तैयार नहीं है।

राकेश टिकैत ने कहा कि हमने तय किया है कि हमारा धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। हमारा धरना स्थल यही रहेगा हम चाहते हैं कि अधिकारी के ख़िलाफ़ कार्रवाई हो।

प्रेस कांफ्रेंस के बाद राकेश टिकैत ने ट्वीट कर भी साफ़ कहा कि जब तक अधिकारी के ख़िलाफ़ कार्रवाई नहीं होती तब तक उनका धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। करनाल मिनी सचिवालय पर ही धरना जारी रहेगा। टिकैत ने कहा कि धरना स्थल मिनी सचिवालय ही रहेगा, जब तक न्याय नहीं मिलेगा तब तक किसान का संघर्ष जारी रहेगा।

बता दें कि 28 अगस्त को भाजपा की एक बैठक में जा रहे नेताओं का विरोध करते हुए एक राष्ट्रीय राजमार्ग पर कथित तौर पर यातायात बाधित करने वाले किसानों के एक समूह पर हरियाणा पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। जिसमें 10 से अधिक प्रदर्शनकारी घायल हो गए थे।

संयुक्त किसान मोर्चा ने आईएएस अधिकारी आयुष सिन्हा के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने की मांग की है। आयुष सिन्हा कथित तौर पर एक टैप में पुलिस कर्मियों को प्रदर्शन कर रहे किसानों को सिर तोड़ने की बात कह रहे थे।

Latest Articles

NewsExpress