मंगलवार, अक्टूबर 26, 2021

भारतीय लेखकों की सबसे प्रसिद्ध 5 बिकने वाली किताबें

किताब पढ़ने से ज्ञान प्राप्त होता है और ज्ञान बांटने से पूर्णता ज्ञान होता है। बचपन से हमे बतया जाता है कि किताबें पढ़ने से ज्ञान मिलता है। स्कूल की किताबो के आलवा भी पढ़ने से ज्ञान बढ़ेगा ,समय का इस्तेमाल होगा और कुछ न कुछ आप उससे सिखेंगे। किताबे बहुत तरह की होती है जेसे विज्ञान, कथा, प्रेम, प्रौद्योगिकी, प्रेरक आदि होती है। किताबे हमारे जीवन का आधार होती है और व्यक्ति किताबो के साथ किसी न किसी मोड़ पर साथी बन जाता है।

किताबें ज्ञान का भंडार होती है। उपन्यास को खाली समय में पढ़ने का अलग ही मज़ा है। कही पर जाना हो और आप खाली हो तो आप उपन्यास पढ़ के अपना समय वयतीत कर सकते है साथ ही ज्ञान भी बढ़ेगा। कहते है कि जितना हम पढ़ेंगे उतना हम सीखेंगे। भारतीय लेखकों की किताबें अंतराष्ट्रीय में भी प्रसिद हुई है। इन प्रसिद्ध किताबो की बिक्री भी बहुत हुई है। इन् लेखकों के बारे में आप ने ज़रूर सुना ही होंगा। प्रसिद लेखक ने लोगों के दिलो को छू लिया है। इनकी लिखी कहानियाँ कुछ अलग अंदाज़ में होती है।

अभी तक की प्रसिद्ध किताबो के नाम अंतर्राष्ट्र में ज्यादा बिक रहे है और भारतीय लेखक भी प्रसिद हुए है।

1. द ब्लू अम्ब्रेला- रस्किन बॉन्ड

रस्किन बॉन्ड अपनी सरल और मजाकिया कहानी के साथ गढ़वाल रेंज के एक गांव में रहने वाली एक लड़की की कहानी बताते हैं। जब वह अपने भाग्यशाली तेंदुए के पंजे के लटकन को एक सुंदर नीली छतरी के लिए बदल देती है, तो राम भरोसा ईर्ष्यालु हो जाता है। 2005 में, इसे उसी नाम से एक हिंदी भाषा की फिल्म में रूपांतरित किया गया, जिसने सर्वश्रेष्ठ बाल फिल्म का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता।

2. गॉड ऑफ़ स्मॉल थिंग्स- अरुन्दति रॉय

छोटी चीजों का देवता आयमेनम (अब कोट्टायम जिले, केरल का एक हिस्सा) के जुड़वां बच्चों राहेल और एस्थपेन की कहानी है। यह जीवन की छोटी-छोटी चीजों की खोज करता है और जातिवाद पर एक विडंबनापूर्ण टिप्पणी करता है जो भारत में एक चिंता का विषय है। 1997 में बुकर पुरस्कार जीता।

3. द वाइट टाइगर- अरविंद अडिगा

नायक के रूप में बलराम हलवाई के साथ, अरविंद अडिगा हमें बलराम की अपनी शर्तों में, हुक या अपराध द्वारा सफलता खोजने की यात्रा के माध्यम से ले जाता है। पूरी तरह से मनोरम कथा के साथ, द व्हाइट टाइगर को एक बार शुरू करने के बाद अलग रखना मुश्किल है। इस उपन्यास को अरविंद के लिए बुकर पुरस्कार भी मिला। इसके अलावा, नेटफ्लिक्स ने इसी नाम की एक फिल्म को 22 जनवरी को रिलीज़ करने के लिए अनुकूलित किया है।

4. मिडनाइट’स चिल्ड्रन- सलमान रुश्दी

विनिंग बेस्ट ऑफ़ द बुकर 2008 और बुकर प्राइज़ 1981 अन्य के बीच, मिडनाइट्स चिल्ड्रन दुनिया को सलीम सिनाई की आँखों से दिखाता है जो भारत की आज़ादी के मध्यरात्रि में पैदा हुए 1001 बच्चों में से एक थे।

5. ट्रैन टू पाकिस्तान- खुशवंत सिंह

यह मनो माजरा नाम के एक शहर की कहानी है, जहां सदियों से सिख और मुसलमान एक साथ रहते आए हैं। बंटवारे को लेकर पूरे उत्तर भारत में कोहराम मच गया है। पाकिस्तान के लिए ट्रेन हमें गृहयुद्ध की भयावहता का स्वाद देती है और कैसे गांव धार्मिक घृणा का शिकार हो गया। यह एक मुस्लिम लड़की और सिख लड़के की कहानी भी बताता है, जिसका प्यार युद्ध के प्रकोप को सहन करता है।

इन किताबों को पढ़ कर मज़ा आएगा और इसके बाद आपको और किताबे पढ़ने का भी मन करेगा।

Latest Articles

NewsExpress