बुधवार, नवम्बर 17, 2021

केंद्रीय कोयला एवं खान मंत्री प्रल्हाद जोशी ने पीपीटी, एमसीएल की गतिविधियों, परियोजनाओं की समीक्षा की

केंद्रीय कोयला और खान मंत्री प्रल्हाद जोशी ने गुरुवार को पारादीप पोर्ट ट्रस्ट (पीपीटी), और महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड (एमसीएल) के हिंगुला क्षेत्र का दौरा किया और दोनों इकाइयों की विभिन्न गतिविधियों और परियोजनाओं की समीक्षा की।

केंद्रीय मंत्री ने अपने ओडिशा दौरे की शुरुआत करते हुए कोयला और खान राज्य मंत्री रावसाहेब पाटिल दानवे के साथ पारादीप बंदरगाह पर कोयला लोडिंग सिस्टम का निरीक्षण किया। जोशी ने अधिकारियों को समुद्री मार्ग से कोयला परिवहन बढ़ाने के लिए बंदरगाह सुविधाओं का पूरा उपयोग करने के निर्देश दिए और अधिकारियों को पारादीप बंदरगाह को कोल हब के रूप में उपयोग करने की संभावनाओं का पता लगाने के लिए कहा।

जोशी ने पारादीप बंदरगाह के पास रेल रिसीवल सिस्टम के स्थल का भी दौरा किया, जहां वैगन-टिपलर्स की मदद से कोयले को उतारा जाता है। जोशी ने कहा कि यह एक कुशल प्रणाली है जो समय और विलंब शुल्क बचाने में मदद करती है, साथ ही कोल डस्ट के प्रसार को भी कम करती है।

बाद में कोयला मंत्री ने एमसीएल के हिंगुला क्षेत्र में बलराम ओपनकास्ट परियोजना स्थल का दौरा किया। उन्होंने कहा, “आठ एमटी की वार्षिक क्षमता के साथ, यह खदान विस्फोट कार्य के लिए एक पूर्णत: महिला चालक दल द्वारा संचालित खान है।” उन्होंने अधिकारियों के साथ भी बातचीत की और कोयला उत्पादन बढ़ाने और उनकी रवानगी के लिए जमीनी कार्यकर्ताओं को प्रेरित किया।

जोशी ने बलराम ओपनकास्ट परियोजना के पास श्रमिक गौरव जल उद्यान की आधारशिला रखी। जोशी ने कहा, “कोयले की खान की पुनः प्राप्त भूमि पर बनी खूबसूरत झील के किनारे स्थापित इस स्थल में एक प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होने की क्षमता है।”

उन्होंने एमसीएल के हिंगुला क्षेत्र में रेलवे साइडिंग का भी दौरा किया है। मंत्री ने वैगन टर्न-अराउंड समय को कम करने पर जोर दिया। उन्होंने कोयले की रवानगी को अधिकतम करने के संबंध में साइडिंग पर मौजूद रेलवे अधिकारियों के साथ चर्चा की। उन्होंने रेलवे साइडिंग पर पेलोडर ऑपरेटरों को सम्मानित किया, उनकी कड़ी मेहनत की सराहना की और उन्हें कोयला की लोडिंग बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया।

Latest Articles

NewsExpress