सोमवार, अक्टूबर 25, 2021

ऑपरेशन ‘समुद्र सेतु’ और ‘मिशन सागर’ जैसे अभियानों के साथ, भारतीय नौसेना देश के कोविड आउटरीच कार्यक्रम का एक प्रमुख साधन रही : राष्ट्रपति कोविंद

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा कि भारतीय नौसेना ने सभी क्षेत्रीय प्रतिबद्धताओं को पूरा करने और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में मित्रों और भागीदारों के साथ हमारे राजनयिक संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण प्रयास किए हैं।

ऑपरेशन ‘समुद्र सेतु’ और ‘मिशन सागर’ जैसे अभियानों के साथ, भारतीय नौसेना देश के कोविड आउटरीच कार्यक्रम का एक प्रमुख साधन थी जिसने हिंद महासागर क्षेत्र में हमारे समुद्री पड़ोसियों और भागीदारों को सहायता प्रदान की। संकट के समय में भारतीय नौसेना की त्वरित और प्रभावी तैनाती ने हिंद महासागर क्षेत्र में ‘पसंदीदा सुरक्षा भागीदार’ और ‘प्रथम प्रतिक्रियाकर्ता’ होने के भारत के दृष्टिकोण को रेखांकित किया है।

राष्ट्रपति (6 सितंबर, 2021) गोवा में आईएनएस हंस में भारतीय नौसेना विमानन को प्रेसिडेंट्स कलर यानी राष्ट्रपति ध्वज प्रदान करने के अवसर पर बोल रहे थे।

राष्ट्रपति ने यह उपलब्धि हासिल करने के लिए भारतीय नौसेना उड्डयन के सभी अधिकारियों और नाविकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज प्रस्तुत किया गया ध्वज शांति और युद्ध में राष्ट्र को प्रदान की गई असाधारण सेवा की मान्यता है।

कोविंद ने उल्लेख किया कि भारतीय नौसेना विमानन ने कई मानवीय सहायता और आपदा राहत कार्यों के माध्यम से योगदान दिया है, जिसके दौरान इसने साथी नागरिकों को राहत प्रदान की है। मई 2021 में चक्रवात ताउते के दौरान मुंबई में चलाया गया बचाव अभियान एक मिसाल है। हिंद महासागर क्षेत्र में पड़ोसी देशों के कई लोगों को महत्वपूर्ण सहायता भी प्रदान की है।

भारतीय नौसेना के स्वदेशीकरण कार्यक्रम के बारे में बोलते हुए, राष्ट्रपति ने कहा कि भारतीय नौसेना ने सक्रिय रूप से स्वदेशीकरण किया है जो इसकी वर्तमान और भविष्य की अधिग्रहण योजनाओं में अच्छी तरह से परिलक्षित होता है।

उन्होंने कहा कि भारत सरकार के ‘आत्मनिर्भर भारत’ के दृष्टिकोण के अनुसरण में, भारतीय नौसेना उड्डयन ने भी मेक इन इंडिया अभियान के अनुरूप लगातार प्रगति की है। उन्होंने कहा कि विमानन प्रौद्योगिकी में शानदार प्रगति के साथ, आधुनिक, अत्याधुनिक स्वदेशी, हथियार, सेंसर और डेटा लिंक सूट के साथ नौसेना के विमान स्थापित किए जा रहे हैं।

कोविंद ने कहा कि हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा स्वदेशी रूप से निर्मित उन्नत हल्के हेलीकाप्टरों के साथ-साथ डोर्नियर और चेतक विमानों को हाल ही में शामिल किया गया है जो रक्षा क्षेत्र में ‘आत्म-निर्भरता’ की ओर आगे बढ़ने के हमारे प्रयासों को उजागर करता है।

Latest Articles

NewsExpress