शुक्रवार, नवम्बर 19, 2021

महिलाओं को पुरुषों के समान विभिन्न क्षेत्रों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए: उपराष्ट्रपति नायडु

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडु ने महिलाओं को संपत्ति में समान अधिकार प्रदान करने का आह्वान किया और देश की प्रगति के लिए उन्हें पूरी तरह से सशक्त बनाने के महत्व पर प्रकाश डाला।

नायडु ने नेल्लोर के वेंकटचलम में स्वर्ण भारत ट्रस्ट की 20वीं वर्षगांठ समारोह में भाग लेते हुए बताया कि देश की आबादी का लगभग 50 प्रतिशत महिलाएं हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं को पुरुषों के समान विभिन्न क्षेत्रों में सक्रिय होने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

नायडु ने महिलाओं के खिलाफ अत्याचार की निंदा करते हुए विभिन्न व्यवसायों में कौशल प्रदान करने के अलावा, संसद में महिलाओं को आरक्षण प्रदान करने की आवश्यकता को दोहराया।

नायडु ने इस बात पर संतोष जाहिर किया कि स्वर्ण भारत ट्रस्ट पिछले 20 वर्षों से जरूरतमंद और हाशिए पर खड़े लोगों, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में सशक्तिकरण के उनके सपने को पूरा कर रहा है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि हजारों युवा ग्रामीण पुरुषों और महिलाओं को विभिन्न व्यवसायों में प्रशिक्षित किया गया है, और उनमें से कई सफल उद्यमी बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इस ट्रस्ट के केंद्र में किसान, महिलाएं और युवा हैं। उन्होंने कहा कि लोगों की इस तरह की सेवा, भक्ति का सर्वोच्च रूप है।

नायडु ने कहा कि उनका हमेशा से मानना रहा है कि शिक्षा और व्यावसायिक कौशल के माध्यम से गरीबों और हाशिए पर खड़े वर्गों को सशक्त बनाने की जरूरत है।

नायडु ने यह बताते हुए कि ट्रस्ट ने कभी भी सरकार से किसी भी तरह की मदद नहीं ली, कहा कि यह “कोई मामूली उपलब्धि नहीं” है। उन्होंने प्रबंध न्यासी श्रीमती दीपा वेंकट, ट्रस्टियों और उन सभी लोगों की सराहना की जिन्होंने ट्रस्ट को अपने उद्देश्यों को पूरा करने में सक्षम बनाया।

देश की आर्थिक प्रगति में कृषि की अहम भूमिका को रेखांकित करते हुए श्री नायडु ने सभी हितधारकों से कृषि पर अधिक से अधिक ध्यान देने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इसी तरह, युवाओं को कौशल और सशक्त बनाकर भारत के जनसांख्यिकीय स्थिति का पूरी तरह से उपयोग किया जाना चाहिए।

उपराष्ट्रपति ने शहरी – ग्रामीण विभाजन का उल्लेख करते हुए इसे तेजी से पाटने का आह्वान किया और कहा कि यह हमारे गांवों से शहरों की ओर पलायन को भी रोकेगा।

उन्होंने पद्म पुरस्कार विजेताओं के चयन में एक नई परंपरा स्थापित करने के लिए केंद्र सरकार की सराहना की। उन्होंने प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी और इस अवसर पर उपस्थित केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह की भी सराहना की।

नायडु की अध्यक्षता में राज्यसभा में अनुच्छेद 370 को निरस्त करने संबंधी विधेयक के पारित होने पर श्री अमित शाह द्वारा उस वक्त की गई टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि यह उनके जीवन का एक ऐतिहासिक क्षण था क्योंकि उन्होंने हमेशा से शेष भारत के साथ जम्मू और कश्मीर के पूर्ण एकीकरण की वकालत की थी।

उन्होंने कहा कि विस्तृत चर्चा के बाद विधेयक पारित होने के बाद पूरे देश में लोग खुशी से झूम उठे।

उपराष्ट्रपति नायडु ने कोविड-19 महामारी का उल्लेख करते हुए लोगों से टीके लगाने को लेकर झिझक को दूर करने और जल्द टीका लगवाने की अपील की।

Latest Articles

NewsExpress